ग़ज़ल

******************************* दुखाना  नहीं  है  कहीं दिल  किसी का। बना  लो  इसे  फलसफा  ज़िन्दगी  का। ******************************* हराना   किसी   को   नहीं   चाहता  

Read more