फालुन दाफा–जीवन में स्वास्थ्य और सामंजस्य का मार्ग

फालुन दाफा (जिसे फालुन गोंग भी कहा जाता है) मन और शरीर की एक उच्च स्तरीय साधना पद्धति है.  प्राचीन समय से यह पद्धति एक गुरु से एक शिष्य को हस्तांतरित की जाती रही है. वर्तमान समय में फालुन दाफा को पहली बार चीन में मई 1992 में श्री ली होंगज़ी द्वारा सार्वजनिक किया गया. आज, 114 से अधिक देशों में 10 करोड़ से अधिक लोग इसका अभ्यास कर रहे हैं. श्रीलीहोंगज़ीइन्हेंस्वतंत्र विचारोंकेलिए ‘सखारोवपुरस्कार’से सम्मानित किया गया और ‘नोबेलशांति’पुरस्कारकेलिएभीमनोनीतकियाजाचुकाहै.फालुन दाफाऔर इसके संस्थापक, श्री ली होंगज़ी को, दुनियाभर में 1,500 से अधिक पुरस्कारों और प्रशस्तिपत्रों से भीनवाज़ा गया है.

फालुन दाफा में 5सौम्य और प्रभावी व्यायाम सिखाये जाते हैं. ये व्यायामव्यक्तिकी शक्ति नाड़ियों को खोलने, शरीर को शुद्ध करने, तनाव से राहत और आंतरिक शांति प्रदान करने में सहायता करते हैं.व्यायाम सरल, प्रभावीऔर सभी आयु के लोगों के लिए उपयुक्त हैं.

फालुन दाफा मन और शरीर दोनों का अभ्यास है.व्यायाम जो व्यक्ति के शरीर की शक्तिका रूपांतरण करतेहैं उनके आलावा, यह अभ्यासरोज़मर्रा के जीवन में सच्चाई, करुणा और सहनशीलता के मूलभूत नियमों का पालन करके व्यक्ति के नैतिक चरित्र को ऊपर उठाना भी सिखाता है. हमारे मन की स्थिति सीधे हमारे शरीर को प्रभावित करती है. इसलिए मन की एक सकारात्मक और शुद्ध अवस्था अंततः एक स्वस्थ शरीर की ओर ले जाएगी. यह एक कारण है कि फालुन दाफा अभ्यासइतना प्रभावशाली सिद्ध हुआ है.

दुनिया भर के लाखों लोगों ने फालुन दाफा अभ्यास कोअपने रोज़मर्रा के जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाया है. सीधे शब्दों में कहें तो, वे स्वास्थ्य और सामंजस्यपूर्ण जीवन की दिशा में इसे अपने समय का एक योग्य और सुखद निवेश पाते हैं.इसे सीखने के लिए केवल एकखुले मन और उदार हृदय कीआवश्यकता है. आप भी स्वयं इस अद्भुत अभ्यास के बारे में और अधिक सीख और जान सकते हैं.

फालुन दाफा की पुस्तकें, व्यायाम निर्देश औरअभ्यास स्थलों कि जानकारी इसकी वेबसाइट www.falundafa.orgऔरwww.falundafaindia.orgपर उपलब्ध है. फालुन दाफा सदैव नि:शुल्क सिखाया जाता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *